Thursday, January 18, 2018

566. अँधेरा...

अँधेरा...  

*******  

उम्र की माचिस में  
ख़ुशियों की तीलियाँ  
एक रोज़ सारी जल गई  
डिबिया ख़ाली हो गई  
आधे पायदान पर खड़ी होकर  
हर रोज़ ख़ाली डिब्बी में  
मैं तीलियाँ ढूँढती रही  
दीये और भी जलाने होंगे  
जाने क्यों सोचती रही  
भ्रम में जीने की आदत गई नहीं  
हर शब मन्नत माँगती रही  
तीलियाँ तलाशती रही  
पर माचिस की डिब्बी ख़ाली ही रही  
यूँ ही ज़िन्दगी निबटती रही  
यूँ ही जिन्दगी मिटती रही  
जो दीये न जले  
फिर जले ही नहीं  
उम्र की सीढियों पे  
अब अँधेरा है।  

- जेन्नी शबनम (18. 1. 2018)  

_______________________________

Sunday, January 7, 2018

565. धरातल...

धरातल...  

*******  

ग़ैरों की दास्ताँ क्यों सुनूँ?  
अपनी राह क्यों न बनाऊँ?  
जो पसंद बस वही क्यों न करूँ?  
दूसरों के कहे से जीवन क्यों जीऊँ?  
मुमकिन है ऐसे कई सवाल कौंधते हों तुममें  
मुमकिन है इनके जवाब भी हों तुम्हारे पास  
जो तुम्हारी नज़रों में सटीक है  
और सदैव जायज़ भी।  
परन्तु सवाल एक जगह ठहरकर  
अपने जवाब तलाश नहीं कर सकते  
न ही सवाल-जवाब के इर्द-गिर्द के अन्धेरे  
रोशनी को पनाह देते हैं।  
मुमकिन है मेरी तय राहें  
तुम्हें व्यर्थ लगती हों  
मेरे जीए हुए सारे अनुभव  
तुम्हारे हिसाब से मेरी असफलता हो  
मेरी राहों पर बिछे फूल व काँटे  
मेरी विफलता सिद्ध करते हों,  
परन्तु एक सच है  
जिसे तुम्हें समझना ही होगा  
उन्हीं राहों से तुम्हें भी गुज़रना होगा  
जिन राहों पर चलकर मैंने मात खाई है,  
उन फूलों को चुनने की ख़्वाहिश तुम्हें भी होगी  
जिन फूलों की ख़्वाहिश में मुझे  
सदैव काँटों की चुभन मिली है,  
उन ख़्वाबों की फ़ेहरिस्त बनाना तुम्हें भी भायेगा  
जिन ख़्वाबों की लम्बी फ़ेहरिस्त  
जो अपूर्ण रही  
और आजीवन मेरी नींदों को डराती रही।  
दूसरों की जानी दिशाओं पर चलना  
व्यर्थ महसूस होता है  
दूसरों के अनुभव से जानना  
संदेह पैदा करता है।  
परन्तु राह आसान हो  
सपने पल जाएँ  
और जीवन सहज हो  
तुम सुन लो वो सारी दास्तान  
जो मेरे जीवन की कहानी है,  
ताकि राह में तुम अटको नहीं  
भटको नहीं  
सपने ठिठके नहीं  
जीवन सिमटे नहीं,  
दूसरों के प्रश्न और उत्तर से  
ख़ुद के लिए उपयुक्त  
प्रश्न और उत्तर बनाओ  
ताकि धरातल पर  
जीवन की सुगंध फैले  
और तुम्हारा जीवन परिपूर्ण हो।  
जान लो  
सपने और जीवन  
यथार्थ के धरातल पर ही  
सफल होते हैं।  

- जेन्नी शबनम (7. 1. 2018)

(अपनी पुत्री के 18 वें जन्मदिन पर)

______________________________________

Thursday, December 28, 2017

564. हाइकु काव्य (हाइकु पर 10 हाइकु)

हाइकु काव्य  
(हाइकु पर 10 हाइकु)
 
*******  

1.  
मन के भाव  
छटा जो बिखेरते  
हाइकु होते।  

2.  
चंद अक्षर  
सम्पूर्ण गाथा गहे  
हाइकु प्यारे।  

3.  
वृहत् सौन्दर्य  
मन में घुमड़ता,  
हाइकु जन्मा।  

4.  
हाइकु ज्ञान -  
लघुता में जीवन,  
सम्पूर्ण बने।  

5.  
भारत आया  
जापान में था जन्मा  
हाइकु काव्य।  

6.  
हाइकु आया  
उछलता छौने-सा  
मन में बसा।  

7.  
दिखे रूमानी  
करे न मनमानी  
नन्हा हाइकु।  

8.  
चंद लफ़्ज़ों में  
अभिव्यक्ति संपूर्ण  
हाइकु पूर्ण।  

9.  
मेरे हाइकु  
मुझसे बतियाते  
कथा सुनाते।  

10.  
हाइकु आया  
दुनिया समझाने  
हमको भाया।  

- जेन्नी शबनम (10. 12. 2017)  

_____________________________

Thursday, November 16, 2017

563. यकीन...

यकीन...

*******  

हाँ मुझे यक़ीन है  
एक दिन बंद दरवाज़ों से निकलेगी ज़िन्दगी  
सुबह की किरणों का आवाभगत करेगी  
रात की चाँदनी में नहाएगी  
कोई धुन गुनगुनाएगी  
सारे अल्फाजों को घर में बंद करके  
सपनों की अनुभूतियों से लिपटी  
मुस्कुराती हुई ज़िन्दगी  
बेपरवाह घुमेगी  
ज़िन्दगी फिर से जीयेगी  
हाँ मुझे यक़ीन है  
ज़िन्दगी फिर से जीयेगी।  

- जेन्नी शबनम (16. 11. 2017)  

________________________________

Tuesday, November 14, 2017

562. फ्लाईओवर...

फ्लाईओवर...  

*******  

एक उम्र नहीं  
एक रिश्ता नहीं  
कई किश्तों में  
कई हिस्सों में  
बीत जाता है जीवन  
किसी फ़्लाइओवर के नीचे  
प्लास्टिक के कनात के अंदर  
एक सम्पूर्ण एहसास के साथ। 
गुलाब का गुच्छा
सस्ती किताब
सस्ते खिलौने  
जिनपर उनका हक होना था  
बेच रहे पेट की खातिर,  
काग़ज़ और कपड़े के तिरंगे झंडे  
आज बेचते कल कूड़े से उठाते  
मस्त मौला  
तरह-तरह के करतब दिखाते  
और भी जाने क्या-क्या है  
जीवन गुजारने का उनका जरिया।  
आज यहाँ कल वहाँ  
पूरी गृहस्थी चलती है  
इस यायावरी में फूल भी खिलते हैं  
वृक्ष वृद्ध भी होते हैं  
जाने कैसे प्रेम पनपते हैं,  
वहीं खाना वहीं थूकना  
बदबू से मतली नहीं  
ग़ज़ब के जीवट  
गज़ब का ठहराव,  
जो है उतने में हँसते  
कोई सोग (शोक) नहीं  
कोई बैर नहीं  
जो जीवन उससे संतुष्ट  
और ज्यादा की चाह नहीं,  
आखिर क्यों?  
न अधिकार चाहिए  
न सुधार चाहिए।   
बस यूँ ही  
पुश्त दर पुश्त  
खंभे की ओट में  
कूड़े के ढेर के पास  
फ़्लाइओवर के नीचे  
देश का भविष्य  
तय करता है  
जीवन का सफ़र।  

- जेन्नी शबनम (14. 11. 2017)  

______________________________________

Tuesday, October 24, 2017

561. दीयों की पाँत (दिवाली के 10 हाइकु)

दीयों की पाँत (दिवाली के 10 हाइकु)  

*******  

1.  
तम हरता  
उजियारा फैलाता  
मन का दीया!  

2.  
जागृत हुई  
रोशनी में नहाई  
दिवाली-रात!  

3.  
साँसें बेचैन,  
पटाखों को भगाओ  
दीप जलाओ!  

4.  
पशु व पक्षी  
थर-थर काँपते,  
पटाखे यम!  

5.  
फिर से आई  
ख़ुशियों की दिवाली  
हर्षित मन!  

6.  
दिवाली रात  
दीयों से डर कर  
जा छुपा चाँद!  

7.  
अँधेरी रात  
कर रही विलाप,  
दीयों की ताप!  

8.  
सूना है घर,  
बैरन ये दिवाली  
मुँह चिढ़ाती!  

9.  
चाँद जा छुपा  
सूरज जो गुस्साया  
दिवाली रात!  

10.  
झुमती रात  
तारों की बरसात  
दीयों की पाँत!  

- जेन्नी शबनम (19. 10. 2017)  

__________________________

Saturday, October 7, 2017

560. महाशाप...

महाशाप...  

*******  

किसी ऋषि ने  
जाने किस युग में  
किस रोष में  
दे दिया होगा
सूरज को महाशाप
नियमित, अनवरत, बेशर्त  
जलते रहने का  
दूसरों को उजाला देने का,  
बेचारा सूरज  
अवश्य होत होगा निढाल  
थक कर बैठने का  
करता होगा प्रयास  
बिना जले  
बस कुछ पल  
बहुत चाहता होगा उसका मन,  
पर शापमुक्त होने का उपाय  
ऋषि से बताया न होगा,  
युग सदी बीते, बदले  
पर वह  
फ़र्ज़ से नही भटका  
 कभी अटका  
हमें जीवन और  
ज्योति दे रहा है  
अपना शाप जी रहा है।  
कभी-कभी किसी का शाप  
दूसरों का जीवन होता है।  

- जेन्नी शबनम (7. 10. 2017)  

_________________________

Sunday, September 17, 2017

559. कैसी ज़िन्दगी? (10 ताँका)

कैसी ज़िन्दगी?  
(10 ताँका)  

*******  

1.  
हाल बेहाल  
मन में है मलाल  
कैसी ज़िन्दगी?  
जहाँ धूप न छाँव  
न तो अपना गाँव!  

2.  
ज़िन्दगी होती  
हरसिंगार फूल,  
रात खिलती  
सुबह झर जाती,  
ज़िन्दगी फूल होती!  

3.  
बोझिल मन  
भीड़ भरा जंगल  
ज़िन्दगी गुम,  
है छटपटाहट  
सर्वत्र कोलाहल!

4.  
दीवार गूँगी  
सारा भेद जानती,  
कैसे सुनाती?  
ज़िन्दगी है तमाशा  
दीवार जाने भाषा!

5.  
कैसी पहेली?  
ज़िन्दगी बीत रही  
बिना सहेली,  
कभी-कभी डरती  
ख़ामोशियाँ डरातीं !  

6.  
चलती रही  
उबड-खाबड़ में  
हठी ज़िन्दगी,  
ख़ुद में ही उलझी  
निराली ये ज़िन्दगी!  

7.  
फुफकारती  
नाग बन डराती  
बाधाएँ सभी,  
मगर रूकी नहीं,  
डरी नहीं, ज़िन्दगी!  

8.  
थम भी जाओ,  
ज़िन्दगी झुँझलाती  
और कितना?  
कोई मंज़िल नहीं  
फिर सफ़र कैसा?  

9.  
कैसा ये फ़र्ज़   
निभाती है ज़िन्दगी  
साँसों का क़र्ज़,  
गुस्साती है ज़िन्दगी  
जाने कैसा है मर्ज़!  

10.  
चीख़ती रही  
बिलबिलाती रही  
ज़िन्दगी ख़त्म,  
लहू बिखरा पड़ा  
बलि पे जश्न मना!  

- जेन्नी शबनम (17. 9. 2017)  

_________________________

Friday, September 8, 2017

558. हिसाब-किताब के रिश्ते

हिसाब-किताब के रिश्ते  

*******  

दिल की बातों में ये हिसाब-किताब के रिश्ते  
परखते रहे कसौटी पर बेकाम के रिश्ते!

वक़्त के छलावे में जो ज़िन्दगी ने चाह की  
कतरा-कतरा बिखर गए मखमल-से ये रिश्ते!  

दर्द की दीवारों पे हसीन लम्हे टँके थे  
गुलाब संग काँटों के ये बेमेल-से रिश्ते!  

लड़खड़ा कर गिरते फिर थम-थम के उठते रहे  
जैसे समंदर की लहरें व साहिल के रिश्ते!  

नाम की ख्वाहिश ने जाने ये क्या कराया  
गुमनाम सही पर क्यों बदनाम हुए ये रिश्ते!  

चाँदी के तारों से सिले जज़्बात के रिश्ते  
सुबह की ओस व आसमां के आँसू के रिश्ते!  

किराए के मकां में रह के घर को हैं तरसे  
अपनों की आस में 'शब' ने ही निभाए रिश्ते!  


- जेन्नी शबनम (8. 9. 2017)  

____________________________________

Friday, September 1, 2017

557. सूरज की पार्टी (11 बाल हाइकु)

सूरज की पार्टी  
(11 बाल हाइकु)  

*******

1.  
आम है आया  
सूरज की पार्टी में  
जश्न मनाया!  

2.  
फलों का राजा  
शान से मुस्कुराता  
रंग बिरंगा!  

3.  
चुभती गर्मी  
तरबूज़ का रस  
हरता गर्मी!  

4.  
खीरा-ककड़ी  
लत्तर पे लटके  
गर्मी के दोस्त!  

5.  
आम व लीची  
कौन हैं ज़्यादा मीठे  
करते रार!  

6.  
मुस्कुराता है  
कँटीला अनानास  
बहुत ख़ास!  

7.  
पानी से भरा  
कठोर नारियल  
बुझाता प्यास!  

8.  
पेड़ से गिरा  
जामुन तरो ताज़ा  
गर्मी का दोस्त!  

9.  
मानो हो गेंद  
पीला-सा ख़रबूज़  
लुढ़का जाता!  

10.  
धम्म से कूदा
अँखियाँ मटकाता  
आम का जोड़ा!  

11.  
आम की टोली  
झुरमुट में छुपी  
गप्पें हाँकती!

- जेन्नी शबनम (27. 8. 2017)  

_____________________________