Tuesday, August 15, 2017

555. कैसी आज़ादी पाई (स्वतंत्रता दिवस पर 4 हाइकु)

कैसी आज़ादी पाई  
(स्वतंत्रता दिवस पर 4 हाइकु)  

*******  

1.  
मन है क़ैदी,  
कैसी आज़ादी पाई?  
नहीं है भायी!  

2.  
मन ग़ुलाम  
सर्वत्र कोहराम,  
देश आज़ाद!  

3.  
मरता बच्चा  
मज़दूर किसान,  
कैसी आज़ादी?  

4.  
हूक उठती,  
अपने ही देश में  
हम ग़ुलाम!  

- जेन्नी शबनम (15. 8. 2017)  

___________________________

Wednesday, August 9, 2017

554. सँवार लूँ...

सँवार लूँ...  

*******  

मन चाहता है  
एक बोरी सपनों के बीज  
मन के मरुस्थल में छिड़क दूँ  
मनचाहे सपने उगा  
ज़िन्दगी सँवार लूँ।  

- जेन्नी शबनम (9. 8. 2017) 

________________________

Monday, August 7, 2017

553. रिश्तों की डोर (राखी पर 10 हाइकु)

रिश्तों की डोर  
(राखी पर 10 हाइकु)  

*******  

1.  
हो गए दूर  
संबंध अनमोल  
बिके जो मोल!  

2.  
रक्षा का वादा  
याद दिलाए राखी  
बहन-भाई!  

3.  
नाता पक्का-सा  
भाई की कलाई में  
सूत कच्चा-सा!  

4.  
पवित्र धागा  
सिखाता है मर्यादा  
जोड़ता नाता!  

5.  
अपनापन  
अब भी है दिखता  
राखी का दिन!  

6.  
रिश्तों की डोर  
खोलती दरवाज़ा  
नेह का नाता!  

7.  
भाई-बहन  
भरोसे का बंधन  
अभिनंदन!  

8.  
खूब खिलती  
चमचमाती राखी  
रक्षाबंधन!  

9.  
त्योहार आया  
भईया परदेशी  
बहना रोती!  

10.  
रक्षक भाई  
बहना है पराई  
राखी बुलाई!  

- जेन्नी शबनम (7. 8. 2017)

___________________________

Monday, July 17, 2017

552. मुल्कों की रीत है...

मुल्कों की रीत है...  

*******

कैसा अजब सियासी खेल है, होती मात न जीत है
नफ़रत का कारोबार करना, हर मुल्कों की रीत है!

मज़हब व भूख़ पर, टिका हुआ सारा दारोमदार है
गैरों की चीख-कराह से, रचता ज़ेहादी गीत है!  

ज़ेहन में हिंसा भरा, मानव बना फौलादी मशीन  
दहशत की ये धुन बजाते, दानव का यह संगीत है!  

संग लड़े जंगे-आज़ादी, भाई-चारा याद नहीं  
एक-दूसरे को मार-मिटाना, बची इतनी प्रीत है!  

हर इंसान में दौड़ता लाल लहू, कैसे करें फर्क  
यहाँ अपना पराया कोई नहीं, 'शब' का सब मीत है!  

-जेन्नी शबनम (17. 7. 2017)  

________________________________________

Friday, July 7, 2017

551. उदासी...

उदासी...  

*******  

ज़बरन प्रेम ज़बरन रिश्ते  
ज़बरन साँसों की आवाजाही  
काश! कोई ज़बरन उदासी भी छीन ले!  

- जेन्नी शबनम (7. 7. 2017)  

_______________________________

Saturday, July 1, 2017

550. ज़िद (क्षणिका)

ज़िद...  

*******  

एक मासूम सी ज़िद है -  
सूरज तुम छुप जाओ  
चाँद तुम जागते रहना  
मेरे सपनों को आज  
ज़मीं पर है उतरना!  

- जेन्नी शबनम (1. 7. 2017)

_________________________ 

Friday, June 30, 2017

549. धरा बनी अलाव (गर्मी के 10 हाइकु)

धरा बनी अलाव  
(गर्मी के 10 हाइकु)  

*******  

1.  
दोषी है कौन?  
धरा बनी अलाव,  
हमारा कर्म!  

2.  
आग उगल  
रवि गर्व से बोला -  
सब झुलसो!  

3.  
रोते थे वृक्ष -  
'मत काटो हमको',  
अब भुगतो!  

4.  
ये पेड़ हरे  
साँसों के रखवाले  
मत काटो रे!  

5.  
बदली सोचे -  
आँखों में आँसू नहीं  
बरसूँ कैसे?  

6.  
बिन आँसू के  
आसमान है रोया,  
मेघ खो गए!  

7.  
आग फेंकता  
उजाले का देवता  
रथ पे चला!  

8.  
अब तो चेतो  
प्रकृति को बचा लो,  
नहीं तो मिटो!  

9.  
कंठ सूखता  
नदी-पोखर सूखे  
क्या करे जीव?  

10.  
पेड़ व पक्षी  
प्यास से तड़पते  
लिपट रोते!  

- जेन्नी शबनम (29. 6. 2017)

______________________________ 

Sunday, June 25, 2017

548. फ़ौजी-किसान (19 हाइकु)

फ़ौजी-किसान  
(19 हाइकु)  

*******  

1.  
कर्म पे डटा  
कभी नहीं थकता  
फ़ौजी-किसान!  

2.  
किसान हारे  
ख़ुदकुशी करते,  
बेबस सारे!  

3.  
सत्ता बेशर्म  
राजनीति करती,  
मरे किसान!  

4.  
बिकता मोल  
पसीना अनमोल,  
भूखा किसान!  

5.  
कोई न सुने  
किससे कहे हाल  
डरे किसान!  

6.  
भूखा-लाचार  
उपजाता अनाज  
न्यारा किसान!  

7.  
माटी का पूत  
माटी को सोना बना  
माटी में मिला!  

8.  
क़र्ज़ में डूबा  
पेट भरे सबका,  
भूखा अकड़ा!  

9.  
कर्म ही धर्म  
किसान कर्मयोगी,  
जीए या मरे!  

10.  
अन्न उगाता  
सर्वहारा किसान  
बेपरवाह!  

11.  
निगल गई  
राजनीति राक्षसी  
किसान मृत!  

12.  
अन्न का दाता  
किसान विष खाता  
हो के लाचार!  

13.  
देव अन्न का  
मोहताज अन्न का  
कैसा है न्याय?  

14.  
बग़ैर स्वार्थ  
करते परमार्थ  
किसान योगी!  

15.  
उम्मीद टूटी  
किसानों की ज़िन्दगी  
जग से रूठी!  

16.  
हठी किसान  
हार न माने, भले  
साँसें निढाल!  

17.  
रंगे धरती  
किसान रंगरेज,  
ख़ुद बेरंग!  

18.  
माटी में सना  
माटी का रखवाला  
माटी में मिला!  

19.  
हाल बेहाल  
प्रकृति बलवान  
रोता किसान!  

- जेन्नी शबनम (20. 6. 2017)

_____________________________

Thursday, June 1, 2017

547. मर गई गुड़िया...

मर गई गुड़िया...  

*******  

गुड़ियों के साथ खेलती थी गुड़िया  
ता-ता थइया नाचती थी गुड़िया  
ता ले ग म, ता ले ग म गाती थी गुड़िया  
क ख ग घ पढ़ती थी गुड़िया  
तितली-सी उड़ती थी गुड़िया !  

ना-ना ये नही है मेरी गुड़िया  
इसके तो पंख है नुचे  
कोमल चेहरे पर ज़ख़्म भरे  
सारे बदन से रक्त यूँ है रिसता  
ज्यों छेनी हथौड़ी से कोई पत्थर है कटा!  

गुड़िया के हाथों में अब भी है गुड़िया  
जाने कितनी चीख़ी होगी गुड़िया  
हर प्रहार पर माँ-माँ पुकारी होगी गुड़िया  
तड़प-तड़प कर मर गई गुड़िया  
कहाँ जानती होगी स्त्री का मतलब गुड़िया!  

जिन दानवों ने गुड़िया को नोच खाया  
पौरुष दंभ से सरेआम हुंकार रहा  
दूसरी गुड़िया को तलाश रहा  
अख़बार के एक कोने में ख़बर छपी  
एक और गुड़िया हवस के नाम चढी!  

मूक लाचार बनी न्याय व्यवस्था  
सबूत गवाह सब अकेली थी गुड़िया  
जाने किस ईश का शाप मिला  
कैसे किसी ईश का मन न पसीजा  
छलनी हुआ माँ बाप का सीना!  

जाने कहाँ उड़ गई है मेरी गुड़िया  
वापस अब नही आएगी गुड़िया  
ना-ना अब नही चाहिए कोई गुड़िया  
जग हँसाई को हम कैसे सहे गुड़िया  
हम भी तुम्हारे पास आ रहे मेरी गुड़िया!

- जेन्नी शबनम (1. 6. 2017)  

____________________________________ 

Saturday, May 13, 2017

546. तहज़ीब...

तहज़ीब...

*******  

तहज़ीब सीखते-सीखते  
तमीज़ से हँसने का शऊर आ गया  
तमीज़ से रोने का हुनर आ गया  
नहीं आया तो  
तहज़ीब और तमीज़ से  
ज़िन्दगी जीना न आया।  

- जेन्नी शबनम (13. 5. 2017)

________________________